Friday, June 10, 2016

अनर्गल बस यूँ ही

1
for vb-
लगता है या तो गर्मी का कहर है या फिर ग्रुप की ना फिकर है।।
एक हम ही रिश्तों की अंगीठी में शब्दों की चिंगारी दे रहे है ।।
वरना किसे याद है अब इधर लौटना ।।
बहुत हताश हूँ , आप सबकी इस ख़ामोशी से ।।
समय मेरे पास भी थोडा है ।
अगर आपका इतना  कीमती है तो-योगी 🙏🏼☺🙏🏼😂😂😂😂😂
2
सुकूने खयाल हो ,अनबुझा सा सवाल हो।
अपना सा कोई पल,दुरी से भरा मलाल हो।-योगेश 'योगी'

3
Yogesh  'yogi': ये स्नेहसिक्त बिल्लोरी कजरारी अँखियाँ , लगता है हर अगली दिवार ,झरोखे से झांकती है मुझे । ये बिल्लोरी प्यारी सी अँखियाँ
4
Yogesh  'yogi': ये मीठी मधुर मुस्कान , बनाती मेरी मुखर जान।तड़प रहती तुझे देखने को,कब होगा न जाने मुझपर अहसान ।।
5
भीना सा अहसास हो,मेरी कहानी में खास हो।।
कैसे कह दूँ जुदा हो ,यंही हर वक्त आस पास हो।।
6
तेरी गहरी आँखों की गहराई में डूब जाउ । आ के तुझे ख्वाबों में गुनगुनाऊँ ।।
ॐ 🌹🌹🌹🌹🌹

7
तेरे मेरे ये नेह तागे ..बुने हज़ारों चटख रंग संग पिया।।-योगी

8
हर्फों में से 'हुआ जो हुआ 'नहीं 'काश'लेते हैं।
हम ठंडी राख से भी पुराने गुलाब तलाश लेते हैं।।-योगेश 'योगी'

9
दिखता जो हर तरफ उजला और स्याह ।
महसूस हुआ और सुनी जो चर्चा ।।
पता नहीं क्या झूठ और कितना सच्चा ।-योगी

10
ऐ जिंदगी ,क्यूँ यकीं नहीं होता तू इत्ती पास भी है क्यूं इतनी दूर भी फिर।सांस कभी थमी सी आह भी उभर उभर की सिहर।।ये सजा है किस जुर्म की कि जिसे जिया पल पल वो एक पल भी न पा सका पलक सिर्फ राहें बस नहीं मंझिल उधर की इधर -योगी

Tuesday, June 7, 2016

चूँटियो

1.

"हमज्यो कई ?"
डापाचुक कहानी 
म्हारो दिल गबरावे ,जीव डबका खावे।
अणि मेंगारत घर कित्तर बसावे ।।
घरवाला जावे नरि छोर्यां  दिखावे ।
छोर्यांवाला श्यावे,छोरो कतरो कमावे ।।
महारो दिल गबरावे ,जीव डबका खावे ।
डिक्रियां तो लायो घणी काम कोणी आवे।
वणा नोकरी बापू बांथ्या खावे ।।
का रे गोळ्गप्पा -थैलो क्यूँ नी लगावे ।
म्हारो दिल गबरावे ,जीव डबका खावे ।।
जीने कई नी आवे ,झट नोकरिया पावे।
आरछण री चाशनी ,गुलब्जाम्बु खावे।।
योग्यता रा अत्तर रो बापू फुम्बो लगावे ।
म्हारो दिल गबरावे ,जीव डबका खावे ।।
-योगेश अमाना 'योगी'
.............................................................
.............................................................

2.

"हमज्यो कई ?"😂😝😂
ए म्हारी बाई ,आजे धन नरो आई ।
खातो तो खण -खण रुप्या बरसाई ।।

पैदल चाली चाली छाला परा व्या सा।
हारा (ससुराल)में वेरी अबे खूब हंसाई ।।
अबे तो घरर घरर मोटर घर आई ।
खातो तो खण -खण रुप्या बरसाई ।।

घरआळी रोज़ रोज़ मुंडो बिचकावे ।
वेंडी चलम्(प्यार का नाम ) कदी गेना दिलाई ।।
अबे बुटिपालर वाली वन्ने ऐश्वर्या वनाई।।
खातो तो खण -खण रुप्या बरसाई ।।

योगेश अमाना 'योगी'

.............................................................
.............................................................

3.
"हमज्यो कई ?"😂
यो आजकाले कई वेइरयो है ।
जटी देखो वटी मास्टर रोईरयो है।।
भोला मनख ने प्रशासन गाबा जूं।
कुटी -कुटी ने धोइरयो है।।
सूबे -सूबे भगवत भजन छोड़।
हंगता रा फोटु लेइरयो है।।
यो आजकल कई वेइरयो है..
गर्मी में यायावर वेईने पूछे ।
अबे कठे जानो ?वावलो वेइरयो है।।
यो आजकल कई वेइरयो है..
माँ रा बेटा ने कइस खबर नी पडरी ।
गाड़ी बापड़ा री गड बड़ कर री।।
मिने मिने रोइने आंख्या खोइरो है।
यो आजकल कई वेइरयो है ..
योगेश अमाना 'योगी '

.............................................................
.............................................................